Parishkar International College
 Untitled Page CSS3 Social Sliding Left Menu with Fullscreen

परिष्कार विशेषता

परिष्कार इंस्टीट्यूट आॅफ एजूकेशन में राजस्थान सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क के अतिरिक्त अन्य किसी भी प्रकार का कोई शुल्क, किसी भी मद हेतु नहीं लिया जाता है। किंतु प्रशिक्षणार्थियों की उपस्थिति अनिवार्य है। प्रशिक्षणार्थी शिक्षक-प्रशिक्षण कार्यक्रम में स्वप्रेरित, अनुशासित, सक्रिय और नियमित रहकर इस पाठ्यक्रम को पूर्ण करते हैं।

परिष्कार इंस्टीट्यूट आॅफ एजूकेशन में पढ़नेवाले विद्यार्थियों में तीन प्रकार की विशिष्ट योग्यताएँ विकसित होती हंै।


  1. परिष्कार इंस्टीट्यूट आॅफ़ एज्यूकेशन में शिक्षण का स्तर इतना अच्छा है कि यहाँ से डिग्री लेनेवाले विद्यार्थी आगामी प्रतियोगिता परीक्षाओं में सहजता से सफल हो जाते हैं और सरकारी नौकरी प्राप्त कर लेते हैं।

  2. परिष्कार के विद्यार्थियों में शिक्षा के विषयों के ज्ञान के साथ-साथ उत्कृष्ट शिक्षक के गुणों का विकास भी होता है, जैसे - उनमें आत्मविश्वास, स्वाध्याय की प्रवृत्ति, अच्छी भाषा विद्यार्थियों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाना, सुसंस्कृत व्यवहार आदि विकसित होते हैं जिनके कारण वह सरकारी, गैर-सरकारी विद्यालय में अच्छे शिक्षक के रूप में कार्य कर सकता है। यहाँ के विद्यार्थी अच्छे शिक्षकों के रूप में कार्य कर रहे हैं।

  3. परिष्कार में कक्षाएँ व्याख्यान आधारित न होकर विद्यार्थी-केंद्रित पद्धति से होती हैं जिनमें विद्यार्थियों की रूचि, योग्यता एवं सक्रियता का ध्यान रखा जाता है। समूह-चर्चाएँ, वाद-विवाद, प्रश्नोत्तरी, पेपर प्रेजेंटेशन, जूनियर कक्षा को पढ़ाना, पाठ-योजना तैयार करके विद्यार्थियों को पढ़ाना, नृत्य, संगीत, चित्रकला, खेलकूद आदि से अपने व्यक्तित्व को रोचक बनाना आदि वे ऐसे तरीके हैं जिनसे यहाँ का विद्यार्थी विचारशील और अभिव्यक्ति-कुशल बन जाता है जो उसके व्यक्तित्व को जीवन-भर प्रभावी बनाता है और वह आनंदमय बनता है चाहे वह जीवन में कुछ भी कार्य करे। इसलिए परिष्कार से बी.एड. की डिग्री अपने-आपमें विशिष्ट है।

प्रशिक्षणार्थियों के पाठ्यक्रम को अध्यापक द्वारा सिर्फ व्याख्यान विधि से पूर्ण नहीं कराया जाता है बल्कि समूचे पाठ्यक्रम को ध्यान में रखकर पाठ्यगामी क्रियाएँ, पाठ्यसहगामी क्रियाएँ और अतिरिक्त पाठ्यगामी गतिविधियाँ करवाई जाती हैं। इन गतिविधियों को प्रशिक्षणार्थी अध्यापक की मदद से करता है।

संस्थान के वातानुकूलित कक्षा-कक्ष, प्रत्येक कक्षा-कक्ष में प्रोजेक्टर की उपलब्धता, इंटरनेट सुविधा, जिम, लिफ्ट सुविधा, कम्प्यूटर लैब, मनोविज्ञान प्रयोगशाला, विज्ञान प्रयोगशाला, 3875 पुस्तकों सहित ई-लाइब्रेरी तथा अनेक समाचार-पत्र एवं पत्रिकाएँ इसे अन्य महाविद्यालयों से अलग करते हैं।

प्रशिक्षणार्थियों के व्यक्तित्व विकास के लिए इस संस्थान में साप्ताहिक (सात दिवसीय) व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन किया जाता है। इसमें प्रशिक्षणार्थियों के साथ अध्यापक को जोड़कर कई गतिविधियाँ कराई जाती हैं जिससे विद्यार्थी झिझक, शर्मीलापन, अपनी बात दूसरों से न कह पाना आदि बंधनों से मुक्त होकर समूह में काम करना सीख जाते हैं।